Alienum phaedrum torquatos nec eu, vis detraxit periculis ex, nihil expetendis in mei. Mei an pericula euripidis, hinc partem.
Navlakha Mahal
Udaipur
Monday - Sunday
10:00 - 18:00
       

Satyarth Praksh Nyas

Navalakha Mahal is situated in the heart of a blooming rose garden(Gulab Bag) which was originally laid out in the nineteenth century in the historical city of Udaipur also known as the “City of Lakes”.

दरकते रिश्ते

दरकते रिश्ते मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। वह समाज में ही रहता है। समाज के अन्य सदस्यों के साथ वह भिन्न-भिन्न प्रकार से व्यवहार कर सकता है सर्वप्रयम वह विभिन्न प्रकार की क्षमता का अर्जन करता है। फिर स्व बुद्धि तथा मन:स्थिति के अनुसार वह क्षमताओं का प्रयोग करता

वासंती नवसस्येष्टि यज्ञ

वासन्ती नवसस्येष्टि यज्ञ होली का पर्व आज जिस रूप में मनाया जाता है,यह कहना कठिन है कि इसका प्रारम्भ किस प्रकार हुआ परन्तु वासन्ती नवसस्येष्टि के रूप में अत्यन्त प्रचीन काल से यह मनाया जाता रहा है। हमारी परम्परा में ‘समरष्टि-कल्याण प्रमुख है। हमे प्रत्येक कार्य के

ये कहा आ गये हम

ये कहाँ आ गए हम अभी हमने अपने गणतंत्र का 63 वाँ जन्मदिन मनाया है। यह अत्यन्त हर्ष का विषय है पर साथ ही आत्मावलोकन का भी। 1857 में हमारा प्रयम स्वातंर्ि समर प्रारम्भ हुआ। मातृभूमि की बलिवेटी पर अपने शीश काटकर अर्पित कर देने वाले वीरों की एकण्य

About Arya Samaj

Arya Samaj, founded by Swami Dayanand Saraswati on April 10, 1875 in Bombay (now Mumbai), is a social reform movement. Contrary to some misconceptions, it is not a religion or a new sect in Hindu religion. Swami Dayanand brought together a number of concerned members of the society to eliminate the ills prevalent within the Hindu Society in the 19th century.

Navalakha Mahal