Amrut Vachan

Attention: open in a new window. PrintE-mail

12/March/2011

 

जैसे पूर्णकृपायुक्त जननी अपने सन्तानों का सुख और उन्नति चाहती है,

वैसे परमेश्वर भी सब जीवों की बढ़ती चाहता है,

इससे परमेश्वर का नाम माता है।

God is called MATA,

because He has happiness and prosperity of all souls at heart

just an earthly mother, out of extreme love and kindness,

desires happiness and prosperity for her offspring.


11/March/2011

 

जो पिताओं का भी पिता है,

इससे उस परमेश्वर का नाम पितामह है,

और पिताओं के पितरों का भी पिता होने से उसका नाम प्रपितामह है।

God is called PITAMAH, because

He is father of fathers,and PRAPITAMAH,

because He is the father of father’s father.

10/March/2011

 

जो सबका रक्षक,

जैसा पिता अपने सन्तानों पर

सदा पालु होकर उनकी उन्नति चाहता है,

वैसे ही परमेश्वर, सब जीवों की उन्नति चाहता है,

इससे उसका नाम पिता है।

God is called PITA, because He protects all.

Just as a father, through paternal love and kindness

always desires the good of His children,

even so does God, the father of all,

desires happiness for all.


9/March/2011

जैसे भ्राता भाइयों का सहायकारी होता है,

वैसे परमेश्वर भी पृथिव्यादि लोकों के

धारण, रक्षण और सुख देने से बन्धुसंज्ञक है।

God is called BANDHU, because He is like a brother

unto all the world and supports, protects and

gives happiness to all.


8/March/2011

जिसने अपने में सब लोकलोकान्तरों को नियमों से बद्ध कर रक्खे

और सहोदर के समान सहायक है,

इसीसे अपनी अपनी परिधि वा नियम का उल्लंघन नहीं कर सकते,

इससे उस ईश्वर का नाम बन्धु है।

God is called BANDHU,because

He keeps all the world bound by laws in Himself,

and helps to keep them in order

so that they cannot move out of their orbits

or the laws of their constitution.


7/March/2011

जीवों को देने योग्य पदर्थों का दाता

और ग्रहण करने योग्यों का ग्राहक है,

इससे उस ईश्वर का नाम 'होता' है।

God is called HOTA, because

He gives to souls what is worth giving

and accept from them what is worth accepting.


6/March/2011

जो सब जगत~ के पदार्थों को संयुक्त करता है और सब विद्वानों का पूज्य है

और ब्रह्मा से लेके सब ॠषि मुनियों का पूज्य था,है और होगा,

इससे उस परमेश्वर का नाम यज्ञ है, क्योंकि वह सर्वत्र व्यापक है।

God is called YAJNA, because He synthesizes all the objects of the world;

He is reverenced by all the learned men; was, is and shall be worshipped

by all the sages and saints from Brahma onwards and because

He is pervading everywhere.


5/March/2011

जो सब जगत~ का निवासस्थान

सब रोगों से रहित और मुमुक्षुओं

को मुक्ति समय में सब रोगों से छुडाता है,

इसलिये उस परमेश्वर का नाम केतु है।

God is called KETU,

as He is the abode of the universe,

free from death and disease

and frees the emancipated souls

from disease and sufferings during the

period of salvation.


4/March/2011

जो एकान्तस्वरूप, जिसके स्वरूप में दूसरा पदार्थ संयुक्त नहीं,

जो दुष्टों को छोडने और अन्य को छुडानेहारा है,

इससे परमेश्वर का नाम राहु है।

The name of God is RAHU,

because He is essentially one,

without admixture of anything else,

who rejects the wicked and frees others

from the hands of the wicked.


3/March/2011

जो सबमें सहज से प्राप्त धैर्य्यवान है,

इससे उस परमेश्वर का नाम शनैश्चर है।

God is called SANAISCHRA,

because He reaches or gains access to all with ease,

and possesses great fortitude.


2/March/2011

जो अत्यन्त पवित्र और जिसके संग से जीव भी पवित्र हो जाता है,

इसलिये उस परमेश्वर का नाम शुक्र है।

The name of God is SUKRA,

as He is extremely pure and by His association,

the soul becomes pure.


1/March/2011

जो स्वयं बोधस्वरूप और सब जीवों के बोध का कारण है,

इसलिये उस परमेश्वर का नाम बुध है।

God is called BUDHA as He is all knowledge,

and is the source of knowledge of all souls.

 
Copyright © 2013 Satyarth Prakash Nyas. Powered by Geneotech